Baba Deep Singh:अपना कटा सर हाथ में लेकर मुगलों का सर काटने वाला योद्धा

0
596

बाबा दीप सिंह के दस्ते के हरमिंदर साहिब की ओर बढ़ने की खबर पाकर लाहौर के गवर्नर तैमूर शाह ने बीस हजार लड़ाकों की सेना को अमृतसर की ओर रवाना किया। तैमूर की सेना अमृतसर के छह मील उत्तर में रुककर बाबा दीप सिंह का इंतजार करने लगी। दोनो सेनाओं का सामना 11 नवंबर सन् 1757 को गोहलवाड़ के नजदीक हुआ।

दोनों सेनाओं में भयंकर युद्ध चला और बाबा दीप सिंह की सेना विरोधी सेना को खदेड़कर छब्बा गांव तक पहुंच गई। यहां जनरल अट्टल खान और बाबा दीप सिंह के बीच युद्ध हुआ। इस लड़ाई में दोनों ने एक दूसरे पर तलवार से प्रहार किया। अट्टल खान वहीं ढेर हो गया। इस हमले में बाबा दीप सिंह की गर्दन भी धड़ से अलग हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here