Bappa Rawal:बिन कासिम को मारते हुए सिंध तक लेकर गए थे बप्पा रावल

0
3267

यह एतिहासिक कहानी उन दिनों की है जब भारत पर बाहरी आक्रमणकारी लोगों ने हमला शुरू कर दिया था. अरब और इरान से कई शासक लगातार हिन्दुस्तान पर हमला कर रहे थे. बाहरी इस्लाम लगातार भारत पर लूट के लिए कब्जा कर रहा था. इसी कड़ी में मोहम्मद बिन कासिम भारत आया था और इतिहास बताता है कि इस युवा योद्धा ने सिंध के राजा दाहिर को बुरी तरह से हराया था.

जब कासिम सिंध से आगे बढ़ा तो अच्छे-अच्छे राजाओं की हालत खराब हो गयी थी. कासिम लगातार हिन्दू औरतों की इज्जत लूट रहा था. बच्चों का कत्लेआम कर रहा था लेकिन कोई भी हिन्दुतानी राजा इसकी टक्कर नहीं ले पा रहा था. तब यह खबर शिव के भक्त और राजस्थान के हिन्दू शेर योद्धा बप्पारावल तक पहुंची तो बप्पा ने कासिम को ऐसा सबक सिखाया कि . सालों तक भारत में कोई विदेशी आक्रमणकारी भारत की तरफ आँख नहीं उठा पाया।

बप्पा रावल गहलौत राजपूत वंश के आठवें शासक थे और उनका बचपन का नाम राजकुमार कलभोज था. मोहम्मद बिन कासिम के अत्याचार की खबर जब बप्पारावल तक पहुंची तो उन्होंने तुरन्त अपनी सेना को इकट्ठा कर युद्ध की तैयारी शुरू कर दी. बाप्पा ने अजमेर और जैसलमेर जैसे छोटे राज्यों को भी अपने साथ मिला लिया और एक बलशाली शक्ति खड़ी की. मोहम्मद बिन कासिम की टक्कर लेना आसान नहीं था. इसके पास लाखों सैनिकों की सेना थी. कई लाख तो इसकी सेना में धोड़े ही थे. राजा दाहिर के पुत्र जयसिंह ने कासिम से डरकर जान बचाते हुए चित्तोड़ में शरण ली थी. कासिम ने चित्तोड़ पर हमला किया और यहाँ भयंकर युद्ध हुआ.इस युद्ध में मोहम्मद बिन कासिम की हार हुई और वो जान बचाकर सिंध भाग गया .

सिंध के पश्चिमी तट तक कासिम को मारते हुए लेकर गये थे बप्पारावल.इसके बाद बप्पारावल ने गजनी पर भी आक्रमण किया था और वहां के राजा सलीम को बुरी तरह से हराया था. गजनी पर कब्ज़ा करने की बाद गांधार, खुरासान, तूरान और ईरान को भी अपने राज्य में मिला लिया था. इसके बाद कुछ 20 साल राज करने के बाद बप्पारावल ने सन्यास ले लिए था और शिव की आराधना में लीन हो गये थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here