वीरमती -इस वीर मराठा कन्या ने विश्वासघाती पति को भरे दरबार में मार डाला

0
88
भारत का इतिहास वीरांगनाओं के अद्भुत शौर्य और त्याग की कहनियों से भरा पड़ा है. देशप्रेम के कारण इस वीरांगनाओं ने ना केवल दुश्मनों के खिलाफ तलवार उठाई बल्कि जरूरत पड़ने सगे धोखेबाजों को भी माफ़ नहीं किया .ऐसी ही थी देवगिरी की मराठा कन्या वीरमति जिसने अपने पति के खिलजी से जा मिलने के बाद उसका वध कर खुद उसके साथ सती हो गयी .

देवगिरि नामक एक छोटा  सा राज्य था। चौदहवीं शताब्दी में वहाँ के राजा रामदेव पर अलाउद्दीन खिलजी ने चढ़ाई की।लेकिन देवगिरि के राजपूत सैनिकों की शक्ति के सामने उसकी बड़ी भारी सेना टिक नहीं सकी। अलाउद्दीन के बहुत से सैनिक मारे गये। हार कर वह पीछे लौट पड़ा। देवगिरि में विजय का उत्स्व मनाया जाने लगा।राजा रामदेव की सेना का एक मराठा सरदार किसी पिछले युद्ध में मारा गया था। उस सरदार की एक मात्र कन्या वीरमती को राजा ने अपनी पुत्री के समान पाला – पोसा था और जब वह चौदह – पंद्रह वर्ष की हुई तो अपनी सेना के कृष्णराव नाम के एक मराठा युवक से उसकी सगाई कर दी गयी। यह कृष्णराव बड़ा लोभी था। जब अलाउद्दीन हार कर लौट रहा था, तब कृष्णराव ने उसे देवगिरि किले का भेद लोभ से बता दिया कि विजयी होने पर अलाउद्दीन उसे देवगिरि का राजा बना देगा। देवगिरि के किले भेद और वहाँ की सेना की शक्ति का पता पाकर अलाउद्दीन फिर से सेना के साथ लौट पड़ा।

देवगिरि राज्य में विजय का उत्स्व मनाया जा रहा था कि अलाउद्दीन के लौटने का समाचार मिला। राजा रामदेव ने कहा – ‘अवश्य किसी ने हम लोगों के साथ विश्वासघात किया है। बिना कोई विशेष सुचना मिले हारा हुआ शत्रु फिर लौट नहीं सकता था। लेकिन चिन्ता की कोई बात नहीं। हम निश्चय ही शत्रुओं को फिर हरा देंगे।’ ‘हम अवश्य विजयी होंगे।’ सभी राजपूत सरदारों ने तलवारें खींचते हुए कहा। लेकिन कृष्णराव चुप रह गया। सब लोग उसकी ओर देखने लगे और उसके चुप रहने का कारण पूछने लगे।‘यह देशद्रोही है?’ वीरमति ने इतने में ही सिंहनी के समान गरज कर कृष्णराव की छाती में तलवार घुसेड़ दी। कृष्णराव ने वीरमति से पहले कुछ ऐसी बात कही थी, जिससे वीरमति को उस पर संदेह हो गया था। मरते – मरते कृष्णराव बोला – ‘मैं सचमुच देशद्रोही हूँ, लेकिन वीरमति! तुम्हारा…।’
 वीरमति बीच में ही बोली – ‘मैं जानती हूँ कि मेरा तुमसे विवाह होने वाला था। मन से तुम्हें पति मान लिया था।’हिंदू कन्या एक को पति बनाकर फिर दूसरे पुरुष की बात भी नहीं सोच सकती। मैने देशद्रोही को मारकर अपने देश के प्रति मेरा जो कर्तव्य था उसे पूरा कर दिया है। अब मैं अपने सतीधर्म का पालन करुँगी।’ इतना कहकर उसने अपनी छाती में वही तलवार मार ली और कृष्णराव के पास ही वह भी गिर पड़ी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here