क्या है रहस्य मृत सागर का, इसमे क्यों नही डूबता कोई इंसान ?

0
60

दुनिया  भर में कुछ ऐसी आश्चर्यजनक चीजें है जिनके बारे में जानकर हमें हैरानी होती है। समूद्र या नदी में नहाते हुये एक ही डर रहता है कि कहीं पानी में डूब न जायें। लेकिन आज हम आपको दुनिया के एसे समूद्र के बारे में बतायेगें कि जहां कोई चाहकर भी नहीं डूब सकता। इस  समूद्र का नाम है मृतसागर जिसे डेड सी के नाम से जाना जाता है। यह सागर इजराइल में मौजूद है। यह दुनिया का सबसे छोटा और कम जगह में फैला हुआ सागर है। यह समूद्र 65 किलोमीटर लम्बा और 18 किलोमीटर चौडा है। यह सागर पृथ्वी की सतह से 1375 फुट गहरा है। मृत सागर पृथ्वी का सबसे नीचला बिंदू कहा जाने वाला सागर है। 

हर समूद्र का पानी खारा होता है लेकिन मृत सागर का पानी अन्य सागर की तुलना में 33 प्रतिशत अधिक खारा है। यही वजह है कि इस सागर में कोई भी मछली या जीव जिंदा नहीं रह पाता। लेकिन साथ ही यह पानी स्वास्थ्य के लिये फायदेमंद भी है इस पानी में नहाने से कई बिमारियॉ खत्म हो जाती है। आम पानी की तुलना में मृत सागर के पानी में 20 गुना ज्यादा ब्रोमीन, 50 गुना मैग्निशियम, और 10 गुना आयोडीन होता है। इसमें मोजुद ब्रोमीन धमनियों को शांत करने का मैग्निशियम त्वचा की एलर्जी को दूर करने का और आयोडीन कई ग्रंथियों की क्रियाशिलता को बढाता है। 
 

मृतसागर में घनत्व होने के कारण इस समूद्र में कोई डूबता नहीं है यही वजह है कि लोग इसमें खुब इन्जाय करते है। इस समूद्र में नमक की मात्रा काफी अधिक होती है। इस समूद्र में नमक के टीलों को भी साफ देखा जा सकता है। इस पानी के घनत्व होने की वजह से ही पानी में रहकर आप कई काम कर सकते है जैसे न्यूज पेपर और मैगजीन पढ सकते है इसके अलावा चाय और कॉफी भी पी सकते है। यहां पर्यटन भी काफी विकसित हो चुका है। यहां पिकनिक स्पॉट विकसित किया गया है होटल बनाये गये है। यहां हर समय भीड रहती है लोग यहां पानी में तैराकी का लुत्फ लेते है साथ ही इसके कीचड को अपने शरीर पर मलते है कि जिससे त्वचा निखरती है। 

इस सागर का पानी बहुत उपयोगी है इसके साथ कई तरह की बातें जुडी हुयी है कहा जाता है कि क्लियोपेट्रा भी इस पानी का उपयोग अपनी खूबसूरती बढाने के लिये करती थी। इसके अलावा अरस्तु जैसे महान दार्शनिक ने भी इस पानी की महत्वत्ता बतायी थी। लेकिन अब धीरे धीरे इसका पानी कम होने लगा। इस समूद्र में आने वाले जलाशयों का पानी का रास्ता बदला गया है। और इसके अलावा मिनरल इंडस्ट्री भी इस पानी का जबरदस्त दोहन कर रही है। इस पानी का उपयोग ये इंडस्ट्रीयां कास्मेटिक प्रोडेक्ट बनाने में करती है। ये माना जा रहा है कि इस पानी को समय रहते संरक्षित नहीं किया गया तो एक दिन इस सागर का अस्तित्व ही मिट जायेगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here