तराइन का युद्ध : युद्ध धर्म का पालन ही पृथ्वीराज चौहान की हार का कारण बनी

0
1981

कहते हैं जंग में सब कुछ जायज है .लेकिन ये कहावत उन कायरों पर ज्यादा लागू होती है जिनमें दुश्मनों से आमने-सामने लड़ने की हिम्मत नहीं होती . दिल्ली नरेश पृथ्वीराज चौहान ना केवल एक महान योद्धा थे बल्कि युद्ध धर्म में भी उनकी गहरी आस्था थी .शास्त्रों में वर्णित युद्ध्धर्म के मुताबिक़ सूर्यास्त के बाद युद्ध नहीं होना चाहिए .लेकिन युद्ध धर्म में यही आस्था तराइन के द्वितीय युद्ध में पृथ्वीराज चौहान की हार की वजह बनी .मुहम्मद गौरी की सेना शाम ढलते ही चौहान के सैनिकों पर छिपकर वार करना शुरू कर देती जबकि चौहान अपने युद्ध्धर्म पर अडिग रहे जो अंततः उनकी हार की वजह बनी .

पृथ्वीराज चौहान द्वारा राजकुमारी संयोगिता का हरण करके इस प्रकार कन्नौज से ले जाना राजा जयचंद को बुरी तरह कचोट रहा था।  वह किसी भी कीमत पर पृथ्वीराज का विध्वंस चाहता था।  राजा जयचंद की आँखों पर प्रतिशोध और स्वार्थ का ऐसा पर्दा पड़ा की वह अपने देश और जाति का स्वाभिमान भी त्याग बैठा था। राजा जयचंद के देशद्रोह का परिणाम यह हुआ की जो मुहम्मद गौरी तराइन के युद्ध में अपनी हार को भुला नहीं पाया था, वह फिर पृथ्वीराज का मुक़ाबला करने के षड़यंत्र करने लगा। राजा जयचंद ने दूत भेजकर गौरी को सैन्य सहायता देने का आश्वासन दिया। देशद्रोही जयचंद की सहायता पा कर गौरी तुरंत पृथ्वीराज से बदला लेने के लिए तैयार हो गया। 

1192 ई० में एक बार फिर पृथ्वीराज और गौरी की सेना तराइन के क्षेत्र में युद्ध के लिए आमने सामने खड़ी थी। दोनों और से भीषण युद्ध शुरू हो गया। इस युद्ध में पृथ्वीराज की और से 3 लाख सैनिकों ने भाग लिया था जबकि गौरी के पास एक लाख बीस हजार सैनिक थे। गौरी की सेना की विशेष बात ये थी की उसके पास शक्तिशाली घुड़सवार दस्ता था। पृथ्वीराज ने बड़ी ही आक्रामकता से गौरी की सेना पर आकर्मण किया। उस समय भारतीय सेना में हाथी के द्वारा सैन्य प्रयोग किया जाता था। गौरी के घुड़सवारो ने आगे बढकर राजपूत सेना के हाथियों को घेर लिया और उनपर बाण वर्षा शुरू कर दी।

घायल हाथी न तो आगे बढ़ पाए और न पीछे बल्कि उन्होंने घबरा कर अपनी ही सेना को रोंदना शुरु कर दिया। तराइन के द्वितीय युद्ध की सबसे बड़ी त्रासदी यह थी की देशद्रोही जयचंद के संकेत पर राजपूत सैनिक अपने राजपूत भाइयों को मार रहे थे। दूसरा पृथ्वीराज की सेना रात के समय आक्रमण नहीं करती थी .लेकिन तुर्क सैनिक रात को भी आक्रमण करके मारकाट मचा रहे थे। परिणाम स्वरूप इस युद्ध में पृथ्वीराज की हार हुई और उसको तथा राज कवि चंदबरदाई को बंदी बना लिया गया।

देशद्रोही जयचंद का इससे भी बुरा हाल हुआ, उसको मार कर कन्नौज पर अधिकार कर लिया गया। पृथ्वीराज की हार से गौरी का दिल्ली, कन्नौज, अजमेर, पंजाब और सम्पूर्ण भारतवर्ष पर अधिकार हो गया। भारत में इस्लामी राज्य स्थापित हो गया। अपने योग्य सेनापति कुतुबुद्दीन ऐबक को भारत का गवर्नर बना कर गौरी, पृथ्वीराज और चंदबरदाई को युद्ध बंदी के रूप में अपने गृह राज्य गौर की ओर रवाना हो गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here