अगर वो ख़त मिला होता तो विवाहित होते अटल बिहारी बाजपेयी | Mix Pitara

0
998
अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति के एक ऐसे राजनेता हैं, जिनका विरोध उनके विरोधी भी नहीं कर पाते हैं. वे एक प्रखर वक्ता, दृढ़ राजनेता और कवि हृदय व्यक्ति थे. लेकिन उनके जीवन का एक और पक्ष भी है, जिसपर ज्यादा बात नहीं की जाती है. जी हां वे एक आदर्श प्रेमी थी, जिन्होंने आजीवन अपने प्रेम का दामन नहीं छोड़ा भले ही उनका प्रेम शादी तक नहीं पहुंच पाया. अटल बिहारी वाजपेयी और राजकुमारी कौल का प्रेम कुछ इसी तरह का था. 

 अटल जी और राजकुमारी कौल की मुलाकात 40 के दशक में हुई जब दोनों ग्वालियर के एक ही कॉलेज में पढ़ते थे. ये 40 के दशक के बीच की बात थी. वो ऐसे दिन थे जब लड़के और लड़कियों की दोस्ती को अच्छी निगाह से नहीं देखा जाता था. इसलिए आमतौर पर प्यार होने पर भी लोग भावनाओं का इजहार नहीं कर पाते थे. इसके बाद भी युवा अटल ने लाइब्रेरी में एक किताब के अंदर राजकुमारी के लिए एक लेटर रखा.लेकिन उन्हें उस पत्र का कोई जवाब नहीं मिला.वास्तव में राजकुमारी ने जवाब दिया था. जवाब किताब के अंदर ही रखकर अटल के लिए दिया गया था लेकिन वह उन तक नहीं पहुंच सका. 

इस बीच राजकुमारी के सरकारी अधिकारी पिता ने उनकी शादी एक युवा कॉलेज टीचर ब्रिज नारायण कौल से कर दी . किताब में राजकुमारी कौल के एक परिवारिक करीबी के हवाले से कहा गया कि वास्तव में वह अटल से शादी करना चाहती थीं, लेकिन घर में इसका जबरदस्त विरोध हुआ. हालांकि अटल ब्राह्मण थे लेकिन कौल अपने को कहीं बेहतर कुल का मानते थे. मिसेज कौल की सगाई के लिए जब परिवार ग्वालियर से दिल्ली आया, उन दिनों यहां 1947 में बंटवारे के दौरान दंगा मचा हुआ था. इसके बाद शादी ग्वालियर में हुई. पति बहुत बढ़िया शख्स थे. राजकुमारी कौल की शादी के बाद अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी शादी नहीं की. उन्होंने राजनीति को अपनाया और आगे बढ़ते चले गए.

मोरारजी देसाई की सरकार में जब अटल बिहारी वाजपेयी विदेश मंत्री हुए तो कौल परिवार लुटियंस जोन में उनके साथ रहता था. इस बात की पुष्टि एक आईएएस अधिकारी ने की है. मिसेज कौल हमेशा उनके साथ रहीं, लेकिन यह बिलकुल दोनों का निजी रिश्ता था, जिसपर ना उन्होंने कभी कोई बात की और ना लोगों की बातों को हवा दिया.

 अटल जी की गैरपरंपरागत जीवनशैली और मिसेज कौल के साथ उनके संबंधों के कारण जनसंघ में उनका विरोध हुआ था और बलराज मधोक जैसे लोगों ने उनके और राजकुमारी कौल के संबंधों को गलत ढंग से प्रस्तुत भी किया था.  जिस वक्त मिसेज कौल का निधन हुआ, अटल बिहारी वाजपेयी अल्जाइमर रोग से ग्रस्त हो चुके थे.  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here