King of Bharatpur Kishan Singh : राजा के साथ रात गुजारने के लिए 40 रानियों में होता था कम्पीटीशन

0
674

राजस्थान में ऐसे अनेकों राजा- महाराजा हुए हैं, जो अपनी विचित्र सनकों के कारण दुनिया भर में विख्यात हुए। भरतपुर के राजा किशन सिंह की गणना भी कुछ ऐसे ही शासकों में की जा सकती है, जो अपने रंगीन मिजाज और दोषदर्शिता के लिये पहचाने जाते थे। किशन सिंह की कोई एक, दो नहीं, बल्कि कुल मिलाकर 40 पत्नियाँ थी। इस गुप्त रहस्य का खुलासा भरतपुर के दीवान रहे जरामनी दास ने अपनी पुस्तक ‘महाराज’ में किया था।

किशन सिंह केवल स्त्रियों का ही शौक़ीन नहीं था, बल्कि उसे तैरने का भी बहुत शौक था और उसका यह शौक जूनून की हद तक था। इसलिये उसने अपने उस शौक को पूरा करने के लिये गुलाबी संगमरमर से बने एक बड़े तालाब का निर्माण करवाया था और उसमे प्रवेश करने के लिये चन्दन की लकड़ियों से बने एक सीढ़ीदार जीने का भी निर्माण कराया था।

जब राजा स्नान करने के लिये वहां आता, तो प्रत्येक रानी नग्नावस्था में उस सीढ़ीदार जीने पर खड़ी होकर राजा की अगवानी करती और जब राजा स्नान के लिये तालाब में प्रवेश कर जाता, तब बारी-बारी से प्रत्येक सीढ़ी पर खड़ी रानियाँ जल की अठखेलियों से राजा का स्वागत करती।इस तरह राजा तब तक उनसे जलक्रीडा करता था, जब तक अंतिम 20वीं सीढ़ी पर खड़ी रानियाँ राजा के साथ स्नान नहीं कर लेती थी।

उस समय सभी रानियों को अपने हाथों में मोमबत्तियाँ थामे रखनी होती थी, क्योंकि महल में जलते सभी दिये बुझा दिये जाते थे और फिर सभी रानियाँ उन जलती शमाओं को थामे राजा के सामने नृत्य प्रस्तुत करती थीं। जिस रानी के हाथ में थमी बत्ती अंत तक प्रज्वलित रहती थी, उसे ही उस रात के समय राजा के साथ सोने का अवसर मिलता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here