पुष्यमित्र शुंग : हिन्दू धर्म की उपेक्षा से नाराज शुंग ने किया बुद्धिष्ट मौर्य वंश का विनाश

0
83

पुष्यमित्र शुंग मौर्य वंश को पराजित करने वाला तथा शुंग वंश का प्रवर्तक था। वह जन्म से ब्राह्मण और कर्म से क्षत्रिय था। मौर्य वंश के अन्तिम राजा बृहद्रथ ने उसे अपना सेनापति नियुक्त कर दिया था। बृहद्रथ की हत्या करके पुष्यमित्र शुंग ने मौर्य राजगद्दी पर अपना अधिकार कर लिया।पुष्यमित्र पर आरोप लगते हैं की उन्होंने भारत से बौद्ध धर्म को मिटाने की पूरी कोशिश की .वही कुछ लोगों का मानना है की अगर पुष्यमित्र ने बौध धर्म पर लगाम ना कसी होती तो यहाँ से हिन्दू धर्म का वजूद नष्ट हो जाता ..

सम्राट अशोक के बौद्ध धर्म ग्रहण कर लेने के कारण पूरा मौर्य साम्राज्य हिंसा से दूर हो गया था. अशोक की मौत और वृहद्रथ के अंतिम मौर्य शासक बनने तक मौर्य साम्राज्य बेहद कमजोर हो गया था. अब विदेशी भारत पर हावी होते जा रहे थे. कारण केवल एक था बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक नीतियां.इस समय भारत की खोई हुई पहचान दिलाने के के लिए एक शासक की जरूरत थी. जल्द ही उसे पुष्यमित्र शुंग नाम का वो महान शासक मिल ही गया.राजा बृहद्रथ की सेना की कमान संभालने वाले ब्राह्मण सेनानायक पुष्यमित्र शुंग की सोच राजा से काफी अलग थी.

इसी बीच राजा के पास खबर आई कि कुछ ग्रीक शासक भारत पर आक्रमण करने की योजना बना रहे हैं. इन ग्रीक शासकों ने भारत विजय के लिए बौद्ध मठों के धर्म गुरुओं को अपने साथ मिला लिया था.सरल शब्दों में कहा जाए तो, बौद्ध धर्म गुरु राजद्रोह कर रहे थे. वह ग्रीक सैनिकों को भिक्षुओं के वेश में अपने मठों में पनाह देने लगे और हथियार छिपाने लगे.ये खबर जैसे ही पुष्यमित्र शुंग को पता चली, उन्होंने राजा से बौद्ध मठों की तलाशी लेने की आज्ञा मांगी. मगर राजा ने पुष्यमित्र को आज्ञा देने से इनकार कर दिया.इस दौरान सेनापति पुष्यमित्र राजा की आज्ञा के बिना ही अपने सैनिकों समेत मठों की जांच करने चले गए. जहां जांच के दौरान मठों से ग्रीक सैनिक पकड़े गए. इन्हें देखते ही मौत के घाट उतार दिया गया.उनका साथ देने वाले बौद्ध गुरुओं को राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कर राज दरबार में पेश किया गया

बृहद्रथ को सेनापति पुष्यमित्र का यह बर्ताव अच्छा नहीं लगा. एक सैनिक परेड के दौरान ही राजा और सेनापति के बीच बहस छिड़ गई. बहस इतनी बढ़ गई कि राजा ने पुष्यमित्र पर हमला कर दिया, जिसके पलटवार में सेनापति ने बृहद्रथ की हत्या कर दी और खुद को राजा घोषित कर दिया .इसके बाद पुष्यमित्र ने भारत में पैर पसार रहे ग्रीक शासकों को भारत से खदेड़ा. राजा ने ग्रीक सेना को सिंधु पार तक धकेल दिया. दुश्मनों से आजादी पाने के बाद पुष्यमित्र शुंग ने भारत में दोबारा से वैदिक सभ्यता का विस्तार किया. पुष्यमित्र शुंग ने अश्वमेध यज्ञ भी किया था. भारत के अधिकतर हिस्से पर दोबारा से वैदिक धर्म की स्थापना हुई |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here