365 रानियों के पति इस राजा को था पुरुषों का शौक,अजीब रखता था शर्त

0
123

भारत का एक ऐसा महाराजा जो अपनी शानो-शौकत और रंगीन मिजाजी के लिए दुनियाभर में मशहूर था. आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि इस राजा की 365 रानियां थीं और हर रानियों के साथ रात गुजारने के लिए यह अजीब शर्त रखता था. वो किस रानी के साथ अगली रात गुजारनी है इस बात का फैसला अजीबो-गरीब तरीके से करते थे.

इसके लिए राजा के महल में कई लालटेन जलाए जाते थे. उनकी 365 रानियां ये लालटेन जलाती थीं. हर लालटेन में अलग-अलग रानियों के नाम होते थे. रात भर ये लालटेन जलती थीं. सुबह जो लालटेन सबसे पहले बुझती थी, उस लालटेन में लिखे नाम को राजा पढ़ते थे और वो रात उस रानी के साथ बिताते थे.महाराज की गतिविधियों का जिक्र उनके दीवान जरमनी दास ने अपनी किताब ‘महाराजा’ में किया है. इसमें बताया गया कि भूपेंद्र सिंह ने पटियाला में ‘लीला-भवन’ या रंगरलिया महल बनवाया था. यहां पर केवल निर्वस्त्र लोगों को ही एंट्री मिलती थी. लीला भवन पटियाला शहर में भूपेन्दर नगर जाने वाली सड़क पर बाहरदरी बाग़ के पास बना है।

राजा की सेक्स की भूख अतुलनीय थी. अपनी जवानी में वह सेक्स के प्रति इतने आतुर थे कि उनकी खेल के प्रति रूचि कम होती चली गई. वह गर्मियों में अपने स्वीमिंग पूल में नग्न महिलाओं के साथ मदिरा लेकर अय्याशी करता था. फ्रेन्च ब्यूटीशियन, भारतीय प्लास्टिक सर्जन, सोनार, परफ्यूमर और फैशन डिज़ाइनर्स से वह अपनी रखैलों को पसंद के हिसाब से सजवाता था.किताब ‘महाराजा’ में राजा के बारे में लिखा गया है कि 150 से 400 नग्न पुरुष और नग्न महिलाओं के साथ राजा अय्याशी करता था. इसमें नग्न औरतों के सीने पर मदिरा उड़ेल दी जाती थी और राजा इस मदिरा का सेवन करता था. इसके बाद सामूहिक सेक्स होता था.राजा के पास 44 रोल्स रॉयस कार थी. इसमें से 20 कारों का काफिला रोजमर्रा के कामों में उपयोग होता था. यह सिर्फ राज्य के दौरे के लिए इस्तेमाल होती थीं. आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि भारत में एयरप्लेन खरीदने और अपने राज्य में रनवे बनाने वाले वह पहले व्यक्ति थे.

भूपेंद्र सिंह की थी हिटलर से दोस्ती !बताया जाता है कि राजा भूपेंद्र सिंह की जर्मनी के तानाशाह हिटलर से दोस्ती थी. साल 1935 में बर्लिन ओलंपिक के दौरान भूपेंद्र सिंह की मुलाकात हिटलर से हुई थी. इसमें हिटलर राजा भूपेंद्र से इतने प्रभावित हो गए कि उन्होंने अपनी माय्बैक कार राजा की तोहफे में दे दी थी.महाराजा के पास 2,930 हीरो वाला एक नेकलेस था, इस नेकलेस में दुनिया का सातवां सबसे बड़ा हीरा जड़ा था. नेकलेस का वजन लगभग एक हजार कैरेट था. इसकी कुल कीमत 166 करोड़ रुपये थी.नेकलेस को बनाने वाली कंपनी कार्टियर का इस पर मलिकाना हक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here