जानिए ! क्या हुआ जब एक क्रिश्चियन युवती से इश्क कर बैठा औरंगजेब

0
184

इतिहास में औरंगजेब को बहुत शुष्क, कठोर दिल वाला और स्त्रियों से दूर रहने वाला मुगल बादशाह कहा जाता है लेकिन वो भी प्यार में दो बार बहुत बुरी तरह गिरफ्तार हुआ. इसमें पहला प्यार उसे एक गाने वाली हीराबाई से हुआ, जो बला की खूबसूरत और अल्हड़ क्रिश्चियन युवती थी

 जब बादशाह शाहजहां ने औरंगजेब को दोबारा दक्खन को संभालने भेजा गया तो वो वहां नहीं जाना चाहता था लेकिन बादशाह का आदेश था, इसलिए जाना ही पड़ा. औरंगजेब अजीब मनोदशा में दक्खन पहुंचा. इसके बाद वो अपनी मौसी से मिलने के लिए जैनाबाद, बुरहानपुर चला गया. उसके मौसा थे मीर खलील. जिनको बाद में औरंगजेब ने खानदेश का सूबेदार भी बनाया था.इन मौसा-मौसी से उसके रिश्ते काफी अच्छे थे. जब वो वहां प्रवास कर रहा था तब वो मानसिक अस्थिरता की हालत में मन बहलाने की नीयत से घूमने निकला.”औरंगजेब घूमते घूमते जैनाबाद-बुरहानपुर के हिरन उद्यान जा पहुंचा. तभी वहां वो जैनाबादी से रू-ब-रू हुआ. जिसका संगीत कौशल और नाजो अदाएं बहुत दिलकश थी. किसी को भी अपनी ओर खींच लेती थीं. बेतकल्लुफ अंदाज ने औरंगजेब का ध्यान उसकी ओर खींचा.औरंगजेब अनायास उस पर मोहित हो गया. 

औरंगजेब तो पूरी तरह जैनाबादी उर्फ हीराबाई पर लट्टू हो चुका था. वह अब दक्खन में शासन-प्रशासन के अलावा अगर कहीं वक्त गुजारता तो सिर्फ जैनाबादी के साथ. एक बार तो हद ही हो गई. एक दिन जैनाबादी ने मदिरा का प्याला औरंगजेब के हाथों में दिया और पीने का निवेदन किया. औरंगजेब जितनी मजबूती से इसको मना करता, वो उतने ही प्यार से निवेदन करती. वह उसको अपनी अदाओं से रिझाती. कसमें खिलाती, कसमें खिलाती और प्यार का वास्ता देती. बाद में उसने औरंगजेब को डिगा ही दिया.

कहा जाता है कि औरंगजेब उसके प्यार में डूबता ही चला गया. उसकी हर शाम और खाली वक्त जैनाबादी के साथ ही गुजरता. दुर्भाग्य से औरंगजेब को जब वो सत्ता संघर्ष के लिए मानसिक और मनोवैज्ञानिक तौर पर तैयार करती, तभी 1654 में उसकी मृत्यु हो गई. जिससे औरंगजेब गम में डूब गया. औरंगजेब ने पूरे शासकीय सम्मान के साथ उसे दफनाया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here